Search This Blog

Monday, September 28, 2009

उसका भी कोई लेता इम्तिहान

वो भागती है

फटाफट निपटाकर घर का काम

देने जायेगी आज अपना इम्तिहान

वो पास है

उसकी मुस्कान से दुनिया में है अमन चैन

उसके होने से है घरों में प्रकाश

है प्यार जिसे वो बांटती है

जिसे वो फैलाती है

घृणा ,तृष्णा ,वासना का करती खात्मा

उसका जो लेता इम्तिहान

उसपर आता है तरस

वो त्तो हर हाल

हर इम्तिहान है पास ////