Search This Blog

Wednesday, September 30, 2009

आदत हो गई ,घर आने की

हाज़त हो गई ,मोहब्बत की /

कौन करे अब ,बेवफाई भी

जल्दी में है ,सारी वफाएं भी /