Search This Blog

Friday, December 11, 2009

चिंता के साथ ......

चिंता साथ साथ है
साये की तरह
हँसता हूँ ,कहकहे लगाता हूँ
और अकेले में घबराता हूँ
कभी ऐसा हो न जाये
जिसका डर है मुझे
और वो कभी होता नहीं
अलबत्ता जो  समय  गुजर  गया
चिंता में
वो अब शिकायत के साथ
रहता है मेरे साथ मुह फुलाए
और में जीता हूँ 
समय को खुश करने की
चिंता के साथ ......

****************
chinta saath saath hai
saye ki tarah
hansta hun ,kahkahe lagata hun
aur akele mein ghabrata hun
kabhi aisa na ho jaye
jiska dr hai mujhe
aur wo kabhi hota nahi
albata jo samay gujer gaya
chintaa mein
wo ab shikayat ke saath
rehata hai mere saath muh fulaye
aur mein jeeta hun
samay ko khush kerne ki
chinta ke saath..