Search This Blog

Monday, June 20, 2011

बीता हुआ समय .

कल को भूलना पड़ता है 
याद रखते हुए 
आज को याद नहीं करना पड़ता 
कुछ करना होता है हमेशा आज 
आज कुछ करने के लिए 
कल  ने देखे थे सपने 
 आने वाला कल 
 पीछे छुट गए कल और आज 
की गुनगुनाहट है 
कल बरसात है 
कल बहती नदिया है 
उडती ,चहचहाती  चिड़िया है 
कल है 
हरा  भरा बाग़ 
जिसमे महकता है 
बीता  हुआ समय .....