Search This Blog

Wednesday, October 19, 2011

फिर याद !

जंगल सो रहा है 
रास्ते जग रहे है 
चोकन्ने अँधेरे में 
रौशनी के बीज  आकार लेने को बेताब हो 
आत्मा को खोज रहे है 
जो अभी न जाने
किस खोल को ओढ़े 
है अभी कही ,अभी आएगी मुझे ओढने
सृजन का समय आ गया 
जंगल के इस अँधेरे से  
निसृत होने से पहिले 
आत्मा मुस्कुरायी 
फिर ..फिर ...कितने जन्मो तक 
तुम करोगे प्यार 
अभी तक जन्में  नहीं 
और करने लगे उसे 
फिर याद !