Search This Blog

Sunday, November 20, 2011

ये कंपन
उस  साज से निसरी  थी
जो थिर है
कर झंकृत
समय को ......