Search This Blog

Monday, July 21, 2014

प्रेम में ये कैसी दरार

प्रेम में क्यों दीखता है
उसके कुछ न होने का दर्द
वो  जो भी है मेरा है
कुछ हो न हो
मुझे  इससे क्या
मेरा प्रेम है
इतना काफी क्यों नहीं
शुरू प्रेम के दिनों के बाद
प्रेम जितना नहीं छाता
ये दर्द उससे ज्यादा मुझे सालता .
प्रेम में ये कैसी दरार .....राकेश मूथा