Search This Blog

Monday, July 21, 2014

होगा कभी उजाला शायद

धुंधली सी एक रेख है
जिस पर दिन रात है
सांस एक आहट भी
देहलीज को चौंकाती है
कभी आशा में
निराशा में  कभी
दरवाजे की कड़ियाँ बजाती है
कपडे चलते फिरते दौड़ते दीखते है
 बुझे कोयले पर आई राख की तरह
स्थतियां चेहरे को ढांप
खेत के डरोने का रूप दे गयी है
मगर ये धुंधली सी रेख
जिस  पर दिन से रात होती है
और फिर दिन आ जाता है
अभी तक सांस को चलाये हुए है
गहरे और गहरे में से निकलती निश्वास
अब भी  कहती है
होगा कभी उजाला शायद ...........राकेश मूथा