Search This Blog

Sunday, September 20, 2009

aansu

उमड़ कर
भीतर से
रूक गया है
आँख की कोरों तक
--फ़िर
उछल कर
कोरों से
दूर कही
पानी ....हो गया है
आंसू ////