Search This Blog

Friday, October 2, 2009

तुमसे होती हूँ
पुरे देश
पहाडों से मैदानों तक
कई नगरों ,गावों ,महानगरों
के तटों पर नतमस्तक होते जन
अपार करते स्नेह
पूजते ,मेरे जल को ले जाते दूर -सुदूर से आए जन
मगर
न जाने क्यूँ छोड़ देते दुर्घंध
कारखानों का पानी
नालों का पानी .......////
गोमुख ----
माफ़ करना मुझे
तुम्हारे दिए जल प्रसाद को में सुरक्षित
नही पहुँचा पाउंगी सागर तक ...
शिखर की बर्फ को सह कर
अपनी ऊष्मा से तुमने मुझे किया जल
और में अभागी गंगा
अपनी पूजा करवा कर
नदियों में माँ का स्थान पाकर भी
अपने भक्तों के मल को ही लेजाती हूँ
सागर तक .....