Search This Blog

Friday, December 25, 2009

दुःख आया है तो सुख भी आएगा

सारे सुख, सारे स्वाद ,सारे प्रसाधन 
मेरे हो ,मेरे हो ,मुझ सा और कोई न हो
दुःख सारे ,रोग सारे ,दर्द सारे ,काम सारे
कोई और भोगे ,वही भोगता रहे
मुझ पर कभी न आये विपत्ति .
में कभी न फंसू बाढ़ में ,तूफ़ान में ,
न आग में .न दंगे  में ,न झगडे फसाद में
ठहाके लगता रहूँ उमर भर
सहानुभूति जताता रहूँ लोगो के साथ
मुझ पर कभी न कोई जत्ताये सहानुभूति
लहरें हंसती  है उस पर
ऐसे कैसे होगा रे मन मानव ?
ज्वार आएगा तो लहरें उठेंगी उपर
छूएंगी आकाश
भाटा आने पर उतरेंगी ये लहरें 
तट पर आ- सो रहेगा थक मांद पानी
समझो ...और फिर से सोचों ...रे मन मानव ....
दुःख आया है तो सुख भी आएगा
सुख ये जायेगा दुःख आएगा .......***राकेश