Search This Blog

Thursday, January 7, 2010

रिश्ता ,

बेकार की बहस है
कहा जाते हो ?क्यूँ जाते हो?कब आओगे?
इसी बात का है रिश्ता ,
और इन प्रश्नों  के जवाब तय करते है
अगले पलों में लड़ाई का क्या होगा रूप
आस पास की हवा कभी कभी हो जाती है बैचैन
इस बार लम्बी देर तक चल रही है कुश्ती
वाकई कोई घायल  न हो जाये
मगर कुछ देर बाद झूमती है हवाएँ
कुछ देर बाद प्रेम में मगन हो जाता जहान
उस लड़ाई में प्रेम के बीज हरे पौधों में बदले थे
इस प्रेम में अंकुरित हो रही है नयी लड़ाई
ऐसे चल रहा हमारा दांपत्य
बताया आपको इसीलिए की
आप समझ  न लें कि
हम लड़ाई खोर है
या है  प्रेम दीवाने ....