Search This Blog

Tuesday, May 18, 2010

चुप ही बात किया करे .

बात कैसे करे उससे क्या करे
बस प्यार करे चुप हो देखा करे  .

बोले तो बात बवंडर हो नाचेगी
चुप हो तो फिर वो हमें ताका करे  .

जंगल  को ख़ामोशी  की जरुरत है 
फूलों को तो तितली ही जाना  करे .

सोने वालों का जागना सपना हुआ
नींद क्या होती है सपनो से पूछा करे .

बात दिल से आई है या यू ही कही है
ये तो उसकी आँखों से ही पढ़ा करे .

मत हंसो तुम  इतना उसे देख देख
जो वो शर्माए तो लोग उसे देखा करे .

बरस बीते साथ साथ रहते उसके
शब्द नहीं अब चुप ही बात किया  करे .