Search This Blog

Wednesday, April 6, 2011

हजारों ने हजारे का साथ दिया

www.facebook.com
बहुत शोर है शराबा है 
बातें बातें 
एक दुझे को नीचा दिखाने की पुरझोर कोशिशें 
और हम्माम में सब नंगे 
फकीर की कौन सुने 
वो हँसते है और कहते है 
वो दिन लद गए 
जब महात्मा हुआ करते थे 
लोगो ने माना नहीं 
रस्साकसी में हर बार हार अब बर्दाश्त नहीं 
हजारों ने हजारे का साथ  दिया 
सडको को जाम किया 
ख़ास को छोड़ आम की आवाज ने हुन्कार किया 
बात सीधी सीधी अभी समझ न आये 
मगर हजारे ने बात का सीधा रास्ता तयार किया 
लोक तंत्र में लोक की आवाज 
हो सकता है अभी जोश से निकली है 
मगर इस आवाज को हजारे तुमने 
कितना बुलंद किया ...
दुनिया में फिर भारत की
ये आज़ादी सदियों तलक 
गायी जायेगी .........
भारत ने दुनिया को... हाँ 
...एक और
बापू दिया .......