Search This Blog

Saturday, July 2, 2011

उस घर

खटखटाता रहा जब दरवाजा 
नहीं खुला 
बहुत मनुवार की 
अपना परिचय दिया 
देर तक उनके संशय दूर करता रहा 
बंद ही रहा दरवाजा 
और में लौटने लगा 
तब दरवाजा खोलकर 
वो देने लगी मुझे बहुतेरी आवाजें 
में हतप्रभ बस देखता रहा 
वो बार बार कहती रही दरवाजा  खुल चुका है 
तुम भीतर आ जाओ 
मगर मैं फिर नहीं जा सका 
उस घर ......