Search This Blog

Friday, August 26, 2011

माया मृग को जन्मदिन की हार्दिक बधाई :बतियाती मछलियाँ

माया मृग को जन्मदिन की हार्दिक बधाई     
    आज उनके जन्मदिन पर आओ पढ़ते है उन्ही की लिखी एक कविता 

बतियाती मछलियाँ 

मानसरोवर के ठहरे जल से दूर 
जाने कहा को
जाने  कहा के लिए 
उड़ान भर रहे है ,हंस !
आफलक फैले है 
उनके गोरे पंख  !
जिनसे लगातार झर रहे हैं 
सफ़ेद -सफ़ेद रोंये l
डब-डब रो रहे है हंस,
मानसरोवर से बिछुड़ते l 
आसुओं की हल्की-हल्की चोट से
पड़ जाते है
छोटे -छोटे गड्ढे 
पौष की ठण्डाई रात्तों में 
जमकर बर्फ हो गए 
मानसरोवर के जल में l 


बतियाती है मछलियाँ
बाहर जकड लिए हैं पौष ने 
हवा ,पानी और आकाश l 
आओ,गहरे में चलें 
शायद तल में हो कुछ 
गरमाई ,
बस इतनी कि
जी सकने जितनी 
कि जम ना जायेँ कहीं ,
धमनियों का रक्त ,
कही मानसरोवर भर न
जाये,
कमलों की जगह ,
हमारी दुर्गंधाती लाशों से l 

     (प्रस्तुत कविता उनके काव्यसंग्रह ".......कि जीवन ठहर न जाए"से साभार उनकी इज़ाज़त के
      बिना यहाँ पोस्ट क़ी गयी है...उनके जन्मदिन पर )