Search This Blog

Friday, February 17, 2012

जलाती है दीप कविता

अँधेरा अचानक नहीं आया था
धीरे धीरे तय हो रह था
उजाले को खा रहा था
सब मस्त थे अपनी मस्ती में
पीली  पड़ती ,मद्धिम होती रौशनी चीखती रही
और आज जब अचानक अँधेरा छा गया है
सब समवेत स्वरों में रुदन कर रहे है
ऐसे में जलाती  है दीप कविता
छट रहा है अँधेरा ..धीरे धीरे !!