Search This Blog

Thursday, July 3, 2014

भाव और शब्द

तुम कुछ भी सोचो
बात जो है वो मैं कभी शायद तुम्हे नहीं कह सकूंगा हूबहू जैसा मैं सोच रहा हूँ
हाँ  आभास शायद तुम्हे हो
मेरी बात से
और शायद  मुझे भी लगे
कि मैं यही  कहना चाहता था
भाव और शब्द
आकाश और बादल कि तरह होते है
लगता है कभी आकाश बादल हो गए
और कभी लगता है बादल आकाश हो गए
मगर दोनों अलग है
बहुत अलग .........राकेश मूथा