Search This Blog

Saturday, July 5, 2014

अच्छे दिन आएंगे

बहुत मुश्किल और अब असंभव  होता जाता है
समय के साथ साझा करना ,प्यार करना
और अपने से इतर किसी दूजे को संतुस्ट करना
कमियों को देखने के लिए बेताब हुआ जनसमूह
कभी भी जो किया गया है जिसमें जो अच्छाई है
उसके बारे बात नहीं करना चाहता
जो हुआ वो होना ही चाहिए था ,
आपने अगर किया तो क्या अहसान हुआ
आपका कर्तव्य है ये काम करने का
इन जुमलों से आपके किये गए कार्यों का स्वागत होता है
ऐसे में तुम उम्मीद लगाए हो मुझसे
की मैं तुम्हे अच्छे दिन दे दूंगा
अच्छे दिन किसी के देने से या किसी के कुछ कर देने से नहीं आते
वे आते है आपकी ऊँची सोच और आपके रचनातमक कार्यो के कारण
आओ करें काम और खुश होवे छोटी छोटी बातों पर
बढ़ावा देवे एक दुझे को अहसास न कराएं उनको उनकी कमियां का
बदल दें उन्हें अपने प्यार से अपने कृतित्व से
अच्छे दिन आएंगे हाँ जरूर अगर आपकी सोच अच्छी हो ..............राकेश मूथा